सतरंगी हुई घुरू कि प्राथमिक शाला

दीवाल ही नही बच्चो के मन भी खिल उठे

बिलासपुर/घुरू—:शिक्षिकाओं के थोड़े से प्रयास ने घुरू कि प्राथमिक शाला का परिदृश्य ही बदल कर रख दिया है शाला परिसर के भीतर दिवाले चटक रंग पाकर खिली खिली नजर आती है ऊपर से इन दिवालो के ऊपर जागती हुई तस्वीरे एक तरफ छात्र छात्राओं को सहज ही अध्ययन के साथ सामाजिक संदेश भी देती है इन दिनों घुरू कि प्राथमिक शाला सकारात्मक परिवर्तन का उदाहरण बन गई है पहले दिवालो पर कोयले से न जाने क्या लिखा रहता था जिसे कहने और देखने में भी खराब लगता था पर अब यह बात बीते जमाने कि है हाल ही में शिक्षा विभाग में जब तबादले हुए तो घुरू के इस प्राथमिक शाला कि कमान सरीता श्राफ को मिली इसी वर्ष उन्हें शिक्षक दिवस के दिन शिक्षा दूत का सम्मान भी मिला असल में शाला के भीतर जो सामूहिक नेत्रित्व बना है उसने पुरे परीसर को बदल कर रख दिया है पहले पुरी कक्षाओं कि दशा बदली और बाद में पूरा परीसर बदल गया पहले जो छात्र इसी परीसर में मनमर्जी करते देखे जाते थे अब वे शाला को वैसा ही साफ़ रखना पसंद करते है जैसा वे अपने घर को रखते होंगे बाहरी बदलाव के साथ साथ कक्षा में शिक्षा का गुणात्मक स्तर भी बदला है पढने पढ़ाने का तरीका अब इस मनोविज्ञान के साथ है कि जो पाठ कल तक बच्चो को कठिन लगते थे अब उन्हें न केवल आसन लगते है बल्कि उन पाठ को बच्चे आत्मसाथ भी कर लेते है जिसका लाभ यह होगा कि बच्चे रट्टू तोता नही बनेंगे और उनकी बुद्धि का विकास वैज्ञानिक सोच के साथ होगा प्रभारी प्राचार्य के साथ शाला का पूरा शैक्षणिक और गैर शैक्षणिक स्टाफ अपने कार्य को पुरे मनोयोग से करता नजर आता है

ANIL & farha khan

आप कि आवाज बिलासपुर  ब्योरो चीफ खबरों के लिए एवं संवाददाता बनने के लिए संपर्क करे 9300333117

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: