SC में बोला मुस्लिम पक्ष- श्रद्धा और स्कन्द पुराण से अयोध्या जमीन पर हक नहीं मिलता

नई दिल्ली। सर्वोच्च अदालत की ओर से इस मामले में 17 अक्टूबर तक सुनवाई खत्म करने को कहा गया है, ऐसे में अब सुनवाई के लिए सिर्फ चार दिन बचे हैं. सोमवार को अदालत में मुस्लिम पक्ष की ओर से दलील रखी जा रही है।

सुप्रीम कोर्ट में रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद सुनवाई अब अपने अंतिम दौर में चल रही है. सर्वोच्च अदालत की ओर से इस मामले में 17 अक्टूबर तक सुनवाई खत्म करने को कहा गया है, ऐसे में अब सुनवाई के लिए सिर्फ चार दिन बचे हैं. सोमवार को अदालत में मुस्लिम पक्ष की ओर से दलील रखी जा रही है.

मुस्लिम पक्ष की ओर से राजीव धवन ने अदालत में कहा कि श्रद्धा से जमीन नहीं मिलती है, स्कन्द पुराण से अयोध्या की जमीन का हक नहीं मिलता है. उन्होंने कहा कि अगर बेंच मोल्डिंग ऑफ रिलीफ के तहत किसी एक पक्ष को मालिकाना हक देकर दूसरे को विकल्प देती है तो मुस्लिम पक्षकारों का ही दावा बनता है.

उन्होंने कहा कि तीन पहलू टाइटल के सवाल पर बंटवारा ही गलत था, इस्लामिक कानून और कुरान बहुत पेचीदा है. हिन्दू पक्षकार इसके एक पक्ष के आधार पर हमारी वक़्फ़ की गई मस्जिद को खारिज नहीं कर सकते हैं, दूसरा लिमिटेशन और तीसरा एडवर्स पजेशन को लेकर है.

मुस्लिम पक्ष की ओर से राजीव धवन ने कहा कि मैं किसी डायरी, श्रद्धा या विश्वास की बात नहीं करूंगा. हिंदू पक्ष का विवादित स्थल पर कभी कब्जा नहीं रहा था, उन्हें सिर्फ पूजा का अधिकार मिला था. किसी ने आजतक नहीं माना है कि हिंदू पक्ष का आंतरिक अहाते पर कब्जा था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: