सिम्स कि सुरक्षा में है बड़ा झोल जिसे मिला था सुरक्षा का ठेका उसने दिया पेटी कॉन्ट्रैक्ट

आखिर कौन है जिम्मेदार बी.एस.ए का …?

बिलासपुर—:25 एकड़ के बड़े परिसर में फैले सिम्स कि देखभाल का जिम्मा सिर्फ 143 निजी क्षेत्र के सुरक्षा कर्मियों के हाथ में है सिम्स का सुरक्षा ठेका पुरी तरह से संदेह के घेरे में है कागजो पर जिस बुन्देला सिक्यूरिटी बीएसए के पास है उसके संचालक राजेश त्रुवेदी के कथानुसार उन्होंने इस सुरक्षा ठेके को एक अन्य कंपनी को पेटी कोंट्रेकट पर दे दिया किन्तु पेटी कोंट्रेक्ट लेने वाली कंपनी के नाम का कोई खुलासा नही होता सिम्स के परिसर में निजी सुरक्षा कर्मी कि किसी भी युनिफोर्म पर उसकी संस्था का नाम नही लिखा है हा उनकी वर्दी पर भारतीय सेना लिखा हुआ दिखाई देता है जो कि घोर आपत्तिजनक है सिम्स परिसर के भीतर सुरक्षा एजेंसी के रूप में कौन कार्य कर रहा है यह बात विवादित हो रही है यदि बुन्देला ने किसी अन्य को अपना ठेका ट्रांसफर किया तो इस बात का खुलाशा कुछ माह पुर्व हुए अग्नि दुर्घटना में क्यों नही हुआ बीएसए को जो भुगतान किए जा रहे है उनमे सुरक्षा कर्मियों कि अटेंडेंस को लेकर जो प्रपत्र भरे जा रहे है उन पर अब संदेह होता है ठेके कि सरतो मके मुताबिक 3 पालि में 143 सुरक्षा कर्मी होंगे इस तरह एक पाली में 47 कर्मी होने चाहिए किन्तु सिम्स का प्रपत्र एक पाली में 80 सुरक्षा कर्मी बताता है क्या कोई सुरक्षा एजेंसी इतनी जागरूगता के साथ काम करती है…? इसी तरह सिम्स प्रबंधन ने ठेके कि मियाद पुरी होने के काफी पहले से इसी कंपनी को एक्स्टेंशन देने के लिए पत्राचार सुरु कर दिया है बीएसए जिले कि पुरानी सुरक्षा एजेंसी है जिसका इतिहास काफी विवादित रहा है अभी हाल ही में सुरक्षा एजेंसी कि एक महिला कर्मी ने सिम्स के स्टाफ नर्स कि पिटाई कर दी थी और सिम्स ने सुरक्षा कर्मी और एजेंसी के सुपर वाईजर के खिलाफ कोई एक्शन नही लिया उलटे सुरक्षा कर्मी ने सिम्स प्रबंधन के पास नर्स कि सिकायत कि एक ओर बीएसए के संचालक सिम्स कि सुरक्षा को पेटी कॉन्ट्रैक्ट पर देना बताते है वही जिसे पेटी कॉन्ट्रैक्ट मिला है वह स्वयं को बीएसए का मुलाजिम बताता है

ANIL & farha khan

आप कि आवाज बिलासपुर  ब्योरो चीफ खबरों के लिए एवं संवाददाता बनने के लिए संपर्क करे 9300333117

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: