नरवा, गरूवा, घुरवा एवं बाड़ी योजना की सफलता के लिए सभी विभागों का समन्वित प्रयास जरूरी- प्रभारी सचिव

प्रभारी सचिव श्री अन्बलगन पी.ने ली समीक्षा बैठक  
रायगढ़, 26 जुलाई 2019/ प्रभारी सचिव श्री अन्बलगन पी.विशेष सचिव (स्वतंत्र प्रभार)खनिज संसाधन की अध्यक्षता में आज यहां सृजन सभाकक्ष में समीक्षा बैठक संपन्न हुई। इस अवसर पर कलेक्टर श्री यशंवत कुमार, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी सुश्री ऋचा प्रकाश चौधरी एवं अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

प्रभारी सचिव श्री अन्बलगन पी. ने कहा कि नरवा, गरूवा, घुरवा एवं बाड़ी शासन की एक व्यापक परिकल्पना है और चारों घटक एक दूसरे से संबंधित है। उन्होंने कहा कि किसान का खेती से संबंधित कार्य अनिश्चितता भरा होता है। नरवा, घुरवा, गरूवा एवं बाड़ी प्रत्यक्ष रूप से किसानों से जुड़ा है। इसकी गंभीरता को समझते हुए कार्य करने की जरूरत है। इसके लिए सभी विभागों के समन्वित प्रयासों की जरूरत है। उन्होंने कहा कि इस योजना के शीघ्र ही परिणाम दिखाई देंगे। नरवा प्रोजेक्ट में जी.आई.एस. मैपिंग का उपयोग करते हुए भूमिगत जल स्तर का समुचित उपयोग किया जाए एवं इसे मॉडल के रूप में विकसित किया जाएगा तभी कामयाब होगा। गौठान तैयार होने से किसानों के बहुत फायदा मिलेगा। जितने जगह गौठान निर्मित है। उन्हें स्वप्रेरित ढंग से स्थायी बनाने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि किसानों के रासायनिक खाद के स्थान पर जैविक खाद का प्रयोग करने के लिए प्रोत्साहित करें। किसान अपनी ही बाड़ी में खाद तैयार कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि जिला खनिज न्यास निधि (डीएमएफ) द्वारा खनन प्रभावित प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष रूप से प्रभावित क्षेत्रों की सूची सावधानी पूर्वक तैयार करें। स्वास्थ्य, शिक्षा, पेयजल एवं अन्य क्षेत्रों में कार्य योजना के अनुरूप कार्य करें।

कलेक्टर श्री यशवंत कुमार ने बताया कि नरवा, गुरूवा, घुरवा एवं बाड़ी योजना के तहत जिले में 13 नाले चयनित किए हैं। जिले में 114 गौठान है एवं सभी में कार्य जारी है। घुरवा के लिए 114 ग्राम चयनित किए गए है। जहां भू नाडेप, नाडेप टैंक, वर्मी बेड जैसी संरचनाओं का निर्माण किया गया है। बाड़ी कार्य कार्यक्रम में नवीन बाड़ी के निर्माण के साथ ही पुरानी बाड़ी का भी पुनरूद्धार किया गया है। जहां अक्षय चक्र एवं परम्परागत मॉडल से बाड़ी विकसित किया जा रहा है। कलेक्टर ने बताया कि पहली में प्रवेश हेतु 27705 का लक्ष्य था जिसमें से अब तक 25988 की पूर्ति कर ली गई है। कक्षा 6 वीं में प्रवेश हेतु 27183 का लक्ष्य जिसमें से 25756 की पूर्ति कर ली गई है। उन्होंने जिला शिक्षा अधिकारी से कहा कि बच्चे शाला त्यागी न हो इसका विशेष ध्यान रखें। कलेक्टर ने मध्यान्ह भोजन कार्यक्रम, सार्वजनिक वितरण प्रणाली, धान उठाव की स्थिति, किसान समृद्धि योजना, कृषकों का पंजीयन, खाद एवं बीज वितरण की स्थिति, आयुष्मान भारत आदि के संबंध में जानकारी प्रदान की।

जिला पंचायत सीईओ सुश्री ऋचा प्रकाश चौधरी ने मनरेगा एवं राष्ट्रीय आजीविका मिशन के तहत किए जा रहे कार्यों की जानकारी दी। इस अवसर पर प्रभारी सचिव ने रेल कारिडोर के संबंध में भी समीक्षा की। इस अवसर पर सहायक कलेक्टर श्री संवित मिश्रा, डीएफओ श्री प्रणय मिश्रा एवं श्री मनोज पाण्डेय, अपर कलेक्टर श्री सुखनाथ अहिरवार एवं श्री आर.ए.कुरूवंशी सहित अन्य जिला स्तरीय अधिकारी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: