बैंक से लोन लेकर खेती किया लेकिन कुछ लोगो ने किसान के मेहनत पर पानी फेर दिया

सेराज खान @ जशपुर / सन्ना। जिले के सन्ना में एक किसान जिसका नाम अरविंद कुजूर है जो कि बैंक से 1 लाख का लोन लेकर फसल लगाया, फसल को देख कर किसान के चेहरों पर मुस्कान आयि लेकिन मुस्कान ज्यादा दिनों तक नही रहा।

मामला जशपुर जिला की ग्राम पंचायत सन्ना का है अरविद कुजूर के खेत मे कुछ पशुपालक लगातार उसकी फसल पर अपने मवेशियों को छोड़ देते थे, या गाँव के कुछ लोगो द्वारा किसान के खेत में आवारा पशुओ को छोड़ देते थे। किसान अपनी फसल का नुकसान देखकर पशुपालकों से शिकायत किया तो पशुपालको ने अपना मवेशी ही मानने से इनकार कर दिए।

कोई बात नहीं सुनी गई तो किसान ने मवेशियों को अपनी बाड़ी में लाकर बांध दिया, और उसी समय थाने में जाकर लिखित शिकायत भी कर दी, और कांजी हाउस में रखने का आग्रह भी की, पर उसकी बात को न तो पुलिस ने सुना और न ही पंचायत ने इसपर ध्यान दिया।अचानक उपर हो गए पशुपालक जिस पशुओ को बांधा कर किसान रखा था उस पशुओं को लेकर अचानक से 2 दिनों बाद मालिक खड़े हो गए, जो कभी अपना मवेशी मानने से इनकार करते रहे। थाने में जाकर उलटा आवेदन दे दिया इन सबको साम्प्रादायिक रंग और धार्मिक उन्माद को निर्मित करने की लगातार कोशिश कि जा रही है कुछ लोग हिदुत्व का पुजारी बन खड़े हो गए जो कभी अपने पशु को अपना पशु मानने से इंकार कर दिया था जा कर थाने में किसान के प्रति अपनी पशुओ को बंधक बनाने और बूचड़ हाउस में बेचने की शिकायत किया गया है और पूरे मामले को धार्मिक व सम्प्रदाय रंग देने की कोशिश की जा रही हैं।

अरविंद कुजूर ने बताया कि जब उनकी फसल पशु खा रहे थे तो वे परेशान होकर सभी पशुओं को अपने बाड़ी में बांध दिया और इसकी लिखित शिकायत सन्ना थाना में दिए और आग्रह किया कि सभी पशुओं को कांजी हाउस भेजा जाए, उनकी शिकायत को नजरअंदाज कर दिया गया।

इस बीच उन पशुओं को वह अपने घर पर ही चारा पानी देकर बांधे थे, अचानक 2 दिन बाद पशुपालकों द्वारा उनके विरुद्ध सन्ना थाना में यह शिकायत किया गया कि उनके पशुओं को बूचड़खाने भेजने की कोशिश की जा रही है। और पशु तस्करी और गौ हत्या जैसे उन्माद खबर को कुछ पत्रकारों द्वारा भी द्वारा चलाया गया, अरविंद कुजूर के द्वारा आज सन्ना थाना में एक आवेदन दिया गया, जिसमें वह आग्रह किए हैं कि इस तरह का धार्मिक संप्रदाय बिगाड़ने की खबर फैलाने वालों के ऊपर उचित कार्यवाही की जाए।

One thought on “बैंक से लोन लेकर खेती किया लेकिन कुछ लोगो ने किसान के मेहनत पर पानी फेर दिया

  • September 9, 2019 at 12:59 am
    Permalink

    हमारे किसान भाई को इंसाफ मिलना चाहिए।।

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: